Kaamwali Neetu ki mast chudai कामवाली नीतू की मस्त चुदाई हिन्दी चुदाई कहानिया हिन्दी सेक्स कहानिया hindi sex story hindi chudai kahaniya

Kaamwali Neetu ki mast chudai कामवाली नीतू की मस्त चुदाई हिन्दी चुदाई कहानिया हिन्दी सेक्स कहानिया hindi sex story hindi chudai kahaniya

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम राहुल है और मेरी उम्र 28 साल है, मेरी हाईट 6 फुट 1 इंच है और बॉडी सामान्य है। में हरियाणा से हूँ और मुझे दिन रात बस सेक्स ही दिखता है और सारा दिन घर पर भी छुप-छुपकर आस पड़ोस वाली आंटी, भाभी, और गर्ल्स को देखकर मुठ मारता रहता हूँ। मेरे मम्मी पापा दोनों जॉब करते है तो दिन में घर पर कोई नहीं होता है। ऐसे ही एक दिन में घर में फर्स्ट फ्लोर वाले ड्रॉइग रूम की विंडो से सामने वाली भाभी जो कि झाड़ू लगा रही थी, उनको देख-देखकर मुठ मार रहा था। फर्स्ट फ्लोर पर होने की वजह से उनके बूब्स मुझे बीच-बीच में बिल्कुल साफ़ साफ़ दिख जाते थे, तभी भाभी झाड़ू लगाकर अंदर चली गयी और मेरा लंड ऐसे ही तड़पता रह गया तो मैंने सोचा कि ब्लू फिल्म देखकर ही मुठ मार लेता हूँ।

फिर मैंने अपना लेपटॉप चालू किया और ब्लू फिल्म चला कर देखने लगा, में बिल्कुल हल्की-हल्की आवाज करके ब्लू फिल्म देख रहा था और में आप सबको बता दूँ कि मुझे ब्लू फिल्म बिना पुच-पुच आअहह ऊऊहह की आवाज के अच्छी नहीं लगती है। ऐसे ही थोड़ी देर फिल्म देखने के बाद जब मेरे लंड का पानी निकलने वाला था तो मैंने थोड़ी आवाज तेज कर रखी थी, तभी अचानक घर का दरवाजा किसी ने खटखटाया। फिर मैंने हड़बड़ी में ब्लू फिल्म का साउंड बंद किया और जल्दी से अपना अंडरवियर पहना और दरवाजे के पास जाकर पूछा कौन है? तो बाहर से हमारी कामवाली नीतू की आवाज़ आई। फिर मैंने दरवाजा खोल दिया और वो अंदर आई और बालकनी में झाड़ू लेने चली गयी, में चुपचाप आकर बेडरूम में बैठ गया।

फिर वो अंदर आई और सफाई करने लगी और बेडरूम साफ करके जब वो ड्रॉइग रूम में गयी तो शायद उसकी नज़र मेरे लेपटॉप पर पड़ गयी और उसने लेपटॉप की स्क्रीन को बंद कर दिया और सफाई करके चली गयी। उसके जाने के बाद मैंने दरवाजा अंदर से लॉक किया और फटाफट से लेपटॉप के पास आकर मुठ मारने की तैयारी करने लगा। फिर मैंने देखा कि लेपटॉप का बंद है तो मैंने भी यही सोचा कि नीतू ने कर दिया होगा। फिर मैंने लेपटॉप का फ्लेप वापस से उठाया तो में देखकर दंग रह गया, उसमें अभी भी ब्लू फिल्म चल रही थी, क्योंकि जब दरवाजा बजा तब हड़बड़ी की वजह से में ब्लू फिल्म को बंद करना भूल गया था और सिर्फ़ आवाज बंद करके दरवाजा खोलने चला गया था।

तब मेरे दिमाग़ में एक बात आई कि अगर नीतू (कामवाली) ने लेपटॉप का फ्लेप बंद किया है तो उसने ब्लू फिल्म भी ज़रूर देखी होगी। तब मेरे दिमाग में नीतू की चूत मारने का ख्याल आया। फिर अगले दिन जब वो आने वाली थी तो उससे पहले ही मैंने कुछ ब्लू फिल्म के पोस्टर अपनी टी.वी. ट्रॉली में डी.वी.डी. प्लेयर के ऊपर रख दिए। फिर वो आकर सफाई करने लगी तो मैंने उससे बोला कि नीतू आज़ टी.वी. ट्रॉली भी साफ कर देना। फिर वो जब टी.वी. ट्रॉली की सफाई करने लगी तो में लॉबी मे छुपकर उसे देखने लगा और जैसे ही उसने डी.वी.डी. प्लेयर के ऊपर से मैगज़ीन आदि उठाये तो उसे वो ब्लू फिल्म के पोस्टर दिख गए। तभी उसने झट से पीछे मुड़कर देखा कि कहीं में उसे देख तो नहीं रहा हूँ और में भी साईड में हो गया ताकि में उसे ना दिख सकूँ। फिर उसने बड़े ही ध्यान से पोस्टर पर नंगी फोटो देखी और एक हाथ से अपने बूब्स मसलने लगी।

फिर उसने थोड़ी देर तक देखने के बाद वो पोस्टर वहीं रख दिए और सफाई करके चली गयी। अब मेरी हिम्मत और बढ़ गयी और जब वो अगले दिन आई और सफाई करके सीढ़ियों पर पोछा लगाने गयी तो में चुपचाप उसके पीछे जाकर खड़ा हो गया। वो झुककर बाल्टी में पोछा धो रही थी, मेरा लंड बिल्कुल तना खड़ा था और उसके झुके होने की वजह से बिल्कुल उसकी चूत के पास ही था। वो जैसे ही सीधी खड़ी होने लगी तो उसकी गांड मेरा मतलब उसकी चूत मेरे खड़े लंड से टच हो गयी और वो कुछ देर तक जानबूझ कर ऐसे ही रही और फिर कुछ देर बाद अचानक पीछे मुड़ी। फिर मैंने बोला कि मुझे नीचे जाना है तो इसलिए में यहाँ आया हूँ तो उसने मुझे साईड दे दी। फिर में नीचे आया और सोचने लगा कि आज तो नीतू की चूत मारनी ही है। फिर में कुछ देर के बाद जब ऊपर जाने लगा तो वो बाल्टी और पोछा ऊपर रखकर वापस जा रही थी।

फिर मैंने थोड़ी हिम्मत की और उसे आवाज़ लगाई और बोला कि नीतू एक मिनट ऊपर आओ तो वो आई और बोली कि क्या हुआ साहब? फिर मैंने कहा कि मेरे बेडरूम में एक कॉर्नर में पोछा सही से नहीं लगा है तो वो गयी और पोछा लेकर आई और मुझसे बोली कि कहाँ पर साहब। तभी मैंने उसे ज़ोर से पकड़ लिया और उसे दिवार के सहारे लगाकर ज़ोर-ज़ोर से उसके बूब्स दबाने लगा और वो छुड़ाने की कोशिश करने लगी और बोली कि साहब ये क्या कर रहे हो? मुझे जाने दो और ये कहकर वो अपने आपको मुझसे छुड़ाकर जाने लगी। फिर मैंने उसे बोला कि नीतू में इतने दिन से प्यासा हूँ क्या तुम मेरी इतनी हेल्प भी नहीं कर सकती? तो उसने मना कर दिया और जाने लगी। फिर मैंने उसे वापस बुलाया और बोला कि प्लीज़ मम्मी पापा को कुछ नहीं बताना, नहीं तो वो मुझे घर से निकाल देंगे। फिर वो बोली कि साहब में आपकी बहुत इज़्ज़त करती हूँ और आप चिंता मत करो, में किसी को कुछ नहीं बोलूंगी और वैसे भी आपने अब तक मेरे साथ कुछ ग़लत नहीं किया है। तभी में उसके सामने हाथ जोड़कर बोला कि नीतू प्लीज़ सिर्फ़ 5 मिनट रुक जाओ तो वो फिर से मना करने लगी।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*